रईस शेखों के लिए बुरी खबर, अब नहीं नजर आएंगी इनकी ऐसी PHOTOS

संयुक्त अरब अमीरात में शेर और बाघ जैसे खूंखार जानवरों को पालतू बनाना अब गैरकानूनी हो गया है। यहां के प्रेसिडेंट शेख खलीफा बिन जाएद अल-नहयान ने इस पर पाबंदी लगाने वाले नए कानून को मंजूरी दे दी है। इसके तहत ऐसा करने वाले को अब जेल जाना और जुर्माना भरना होगा। बता दें यूएई में खूंखार जानवरों को पालना शौक और लग्जरी लाइफ का सिम्बल माना जाता रहा है।

यूएई में शेर और बाघ जैसे खूंखार जानवरों को पालतू बनाना अब गैरकानूनी। शेर और चीता समेत ऐसे जंगली जानवर यूएई और बाकी गल्फ देशों में पेट्स की तरह रखे जाते हैं। नए कानून के तहत हर तरह के वाइल्ड और पालतू जानवरों को रखना गैरकानूनी है, जो खतरनाक हों।इन जानवरों को चिड़ियाघर, वाइल्डलाइफ पार्क, सर्कस, ब्रीडिंग एंड रिसर्च सेंटर में ही रखा जा सकता है। गल्फ न्यूज डेली के मुताबिक, तेन्दुआ और चीता जैसे खतरनाक जानवर पेट्स के तौर पर नहीं रख सकते। ऐसे करने पर छह महीने की जेल होगी और जुर्माने के तौर पर 92 लाख रुपए ($136,000) जुर्माना भरना होगा। अरबी डेली पेपर अल इतिहाद के मुताबिक, इन जानवरों का इस्तेमाल किसी को डराने के लिए भी नहीं किया जा सकता। इनका गलत इस्तेमाल करने वाले को सवा एक करोड़ रुपए जुर्माना की रकम भरनी होगी।

PrevPage 1 of 5Next
 
loading...